लॉकडाउन के 21 दिन में क्या बंद रहेगा और कौन सी सेवा रहेंगी चालू, यहाँ जानिए

35
Coronavirus
Coronavirus

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार रात 8 बजे देश को संबोधित किया। उन्होंने कोरोना वायरस से मुकाबले के लिए देश में मंगलवार रात 12 बजे से 21 दिन के लॉकडाउन का एलान किया। उन्होंने कहा कि देश को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए हमें सामाजिक दूरी का ध्यान रखना होगा। मंगलवार 12 बजे रात से घर से निकलने पर पूरी तरह पांबदी लगाई जा रही है. प्रधानमंत्री मोदी ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू की सफलता के लिए देशवासियों का आभार भी व्यक्त किया। इससे पहले पिछले गुरुवार को उन्होंने देश को संबोधित किया था। तब उन्होंने रविवार को जनता कर्फ्यू का एलान किया था।

भारत सरकार और राज्य सरकारों के सभी कार्यालय और उनके स्वायत्त निकाय और निगम बंद रहेंगे, सिवाय रक्षा, कोषागार, सार्वजनिक उपयोगिताओं (पेट्रोलियम, सीएनजी, एलपीजी, आपदा प्रबंधन, बिजली उत्पादन, डाकघर, राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र, जल, स्वच्छता, पुलिस, होमगार्ड, जेल, आदि)।

नगर निकायों में, केवल स्वच्छता और जल आपूर्ति से संबंधित कर्मचारी कार्य करेंगे। अस्पताल, चिकित्सा प्रतिष्ठान, क्लीनिक, औषधालय, प्रयोगशालाएं और संबद्ध सेवाएं क्रियाशील रहेंगी। स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और एम्बुलेंस सेवाओं के परिवहन की अनुमति होगी।

लॉकडाउन से देश की अर्थव्यवस्था को हो सकता है 9 लाख करोड़ रुपए का नुकसान

क्या रहेगा चालू और किन बातों का रखे ध्यान ?

  • पेट्रोल पंप, एलपीजी, पेट्रोलियम और गैस खुदरा और भंडारण आउटलेट चालू रहेंगे।
  • सभी परिवहन सेवाएं -एयर, रेल और रोडवेज बंद रहेंगी। आवश्यक वस्तुओं और फायर, कानून और व्यवस्था और आपातकालीन सेवाओं के परिवहन को छोड़कर अन्य परिवहन सेवाएं बंद रहेंगी।
  • खाद्य सामग्री, किराने का सामान, सब्जियां, सार्वजनिक वितरण प्रणाली, फल, डेयरी और दूध उत्पाद, मांस और मछली, पशु चारा बेचने वाली दुकानें चालू रहेंगी।
  • बिजली उत्पादन, पारेषण और पीढ़ी इकाइयाँ चालू रहेंगे।
  • बैंक, बीमा कार्यालय, ए.टी.एम. दूरसंचार, इंटरनेट, प्रसारण सेवाएं, आईटी और आईटी सेवाओं (आवश्यक सेवाओं के लिए) चालू रहेंगे और जहां तक ​​संभव हो घर से काम करें।
  • ई-कॉमर्स के माध्यम से खाद्य पदार्थों, फार्मास्यूटिकल्स, चिकित्सा उपकरणों जैसे आवश्यक सामानों की डिलीवरी।
  • सेबी द्वारा अधिसूचित पूंजी और ऋण बाजार इकाइयाँ। कोल्ड स्टोरेज और गोदाम।
  • निजी सुरक्षा सेवाएँ।
  • आवश्यक वस्तुओं के निर्माण को छोड़कर औद्योगिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। हॉस्पिटैलिटी सेवाएं, केवल लॉकडाउन के कारण फंसे हुए व्यक्तियों को छोड़कर, और चिकित्सा और आपातकालीन कर्मचारियों के लोए सेवाएं छोड़कर अन्य सभी बंद रहेंगे।
  • सभी पूजा स्थल बंद हो गए। बिना अपवाद के किसी भी धार्मिक मण्डली की अनुमति नहीं है।
  • सभी शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे। अंतिम संस्कार के मामले में, 20 से अधिक व्यक्तियों की मण्डली को अनुमति नहीं दी जाएगी।
  • सभी सामाजिक / राजनीतिक / खेल / मनोरंजन / शैक्षणिक / सांस्कृतिक / धार्मिक कार्यों / समारोहों पर रोक होगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना की मार झेल रहे देशों का जिक्र करते हुए कहा कि इन सभी देशों के दो महीनों के अध्ययन से जो निष्कर्ष निकल रहा है उससे हमें सबक लेना है। विशेषज्ञ भी यही कह रहे हैं कि कोरोना से प्रभावी मुकाबले के लिए एकमात्र विकल्प है- सामाजिक दूरी। साथियों, आप कोरोना वैश्विक महामारी पर पूरी दुनिया की स्थिति को समाचारों के माध्यम से सुन भी रहे हैं और देख भी रहे हैं। आप ये भी देख रहे हैं कि दुनिया के समर्थ से समर्थ देशों को भी कैसे इस महामारी ने बिल्कुल बेबस कर दिया है।

एक दिन के जनता कर्फ़्यू से भारत ने दिखा दिया कि जब देश पर संकट आता है, जब मानवता पर संकट आता है तो किस प्रकार से हम सभी भारतीय मिलकर, एकजुट होकर उसका मुकाबला करते हैं। बच्चे-बुजुर्ग, छोटे-बड़े,गरीब-मध्यम वर्ग-उच्च वर्ग,हर कोई परीक्षा की इस घड़ी में साथ आया। हम इस संकट पर विजय पाने में सफल होंगे।

Comments

comments